आस्तीन के सांप विनय तिवारी समेत 3 और पुलिस कर्मियों को अपराधी विकास दुबे की मदद के आरोप में किया गया सस्पेंड

0
1240
3 more police personnel including sleeve snake Vinay Tiwari suspended for helping criminal Vikas Dubey

विकास दुबे की तलाश में जुटी पुलिस की 100 टीमें लेकिन अभी तक कोई सुराग नहीं लगा हाथ, पुलिस कर्मियों के साथ सत्ता धारी नेता भी है शक के घेरे में.

लखनऊ: Kanpur Encounter: कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के आरोपी कुख्यात अपराधी विकास दुबे (Vikas Dubey) वारदात वाले दिन से अभी तक फरार है. पुलिस की 100 टीमें विकास दुबे की तलाश में जुटने के बाद भी अब तक विकास का कोई सुराग़ हाथ नहीं लगा. इस मामले में कई पुलिस कर्मी और सत्ता पक्ष के नेता शुरू से ही संदेह के घेरे में हैं. थाना चौबेपुर के प्रभारी समेत थाने में ही तैनात दो सब इंस्पेक्टर और एक कॉन्स्टेबल पर विकास दुबे के लिए जासूसी करने का आरोप लगा है. चौबेपुर के थाना इंचार्ज विनय तिवारी को पहले ही सस्पेंड किया जा चुका है.

घटना के बाद गिरफ़्तार विकास दुबे के साथियों ने भी इस बात की तस्दीक की है कि मुठभेड़ से ठीक पहले विकास के पास पुलिस का फोन आया था. फ़ोन करने वाले पुलिस कर्मी ने रेड की जानकारी दी जिसके जवाब में विकास ने कहा आने दो हम उनका कफ़न तैयार करेंगे. कई पुलिसवालों से इस सिलसिले में पूछताछ चल रही है और उनके कॉल रिकॉर्ड भी खंगाले जा रहे हैं.

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कानपुर दिनेश कुमार पी. ने बताया कि निलंबित होने वालों में उप निरीक्षकों – कुंवरपाल, तथा कृष्ण कुमार शर्मा और कांस्टेबल राजीव हैं. ये सभी चौबेपुर थाने में तैनात थे. तीनों के खिलाफ प्रारंभिक जांच शुरू कर दी गई है. उन्होंने बताया कि पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा और अगर जांच के दौरान उनकी भूमिका या साजिश सामने आती है तो उनके खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी. पुलिस के एक अधिकारी ने अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि तीनों पुलिसकर्मी चौबेपुर थाने के प्रभारी विनय तिवारी के साथ विकास दुबे के घर बुधवार को गए थे.

आपको बता दे की स्थानीय कारोबारी राहुल तिवारी की शिकायत पर पुलिस वहां दबिश देने गई थी. राहुल को विकास दुबे ने पुलिस की मौजूदगी में पीटा था. जब तिवारी ने बीचबचाव की कोशिश की तो दुबे ने कथित रूप से उनका मोबाइल छीनकर उनके साथ भी बदसलूकी की थी. उसके बाद दोनों के बीच कहासुनी और धक्कामुक्की भी हुई थी. और फिर पुलिस घर से वापस लौट गई. मुठभेड़ की वारदात के बाद विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया है.

सूचना देने वाले को मिलेगा अब ढाई लाख का इनाम

कानपुर (Kanpur Encounter Case) में 8 पुलिसकर्मयों की हत्या के आरोपी विकास दुबे (Vikas Dubey) की सूचना देने वाले को अब ढाई लाख रूपये का इनाम दिया जाएगा. इससे पहले यह राशि 50000 से बढ़ा के 1 लाख रुपए घोषित की गई थी. दुबे के अलावा, अन्य 18 नामजद अभियुक्तों पर कानपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक की ओर से 25,000-25,000 रुपये का इनाम घोषित किया गया है.